India's Best Distributorship Coin Club. Serving Best areas of Business

Terms And Condition

1. एकीकृत कृषि, डेयरी, ऊर्जा एवं भूमि विकास कार्यक्रम भारतीय पशुपालन निगम द्धारा संचालित 100 मिलियन वर्चुअल कॉइन क्लब है।

2. क्लब में किसी भी व्यक्ति, संगठन, फर्म, कंपनी द्धारा हिस्सेदारी और भागीदारी के लिए आवेदन किया जा सकता है।

3. वितरक बनने की योग्यता:

1) व्यक्ति के लिए:

  • 18 वर्ष और उससे अधिक आयु के व्यक्ति वितरक बनने के लिए आवेदन कर सकते हैं।
  • कंपनी को आवेदन स्वीकार करना है या अस्वीकार करना यह तय करने का पूर्ण विवेकाधिकार है।
  • कंपनी का वितरक एजेंट, प्रतिनिधि या कर्मचारी नहीं है।
  • 2) कानूनी संस्थाएं (जैसे पार्टनरशिप फर्म, एलएलपी, कंपनी, सोसाइटी और ट्रस्ट)

  • उपरोक्त में पंजीकरण कानूनी इकाई के नाम पर होगा।
  • संस्था/निगमन के प्रमाण पत्र के साथ संविधान, विलेख, संघ के लेखों की एक प्रति और पैन कार्ड आवेदन पत्र के साथ जमा किया जाना चाहिए।
  • संस्था के गठन में कोई भी परिवर्तन कंपनी को सूचित किया जाना होगा और नए / अद्यतन संविधान के साथ एक नया आवेदन पत्र प्रस्तुत करना होगा। कंपनी ऐसे पंजीकरण से इनकार करने का अधिकार सुरक्षित रखती है।
  • कंपनी आवेदक कंपनी के अधिकृत व्यक्ति अथवा अधिकारी से ही आगे का संवाद करेगी।
  • आवेदक संस्था के विघटन/समापन/दिवालियापन के मामले में, पात्रता/बकाया, यदि कोई हो, कंपनी को स्वीकार्य प्रमाण प्रस्तुत करने पर उत्तराधिकारी इकाई को जारी किया जाएगा। इस संबंध में दावा (दावों) को विघटन / समापन या दिवाला की घोषणा की घटना से 90 दिनों के बाद स्वीकार नहीं किया जाएगा।
  • इस सम्बन्ध में भारतीय कंपनी एक्ट 1956/भारतीय कंपनी एक्ट 2013 के नियम एवं अन्य लागु एक्ट के नियम आवेदक कंपनी/संस्था पर लागु व स्वीकार्य होंगे।
  • 4. क्लब में हिस्सेदारी और भागीदारी के लिए क्लब की सशुल्क डिस्ट्रीब्यूटरशिप में पंजीकरण आवशयक है।

    5. क्लब की सशुल्क डिस्ट्रीब्यूटरशिप की चार श्रेणियां डायमंड, गोल्ड, सिल्वर और ब्रॉन्ज़ हैं।

    6. क्लब डिस्ट्रीब्यूटरशिप की प्रत्येक श्रेणी में हिस्सेदारी और भागीदारी के लिए पृथक नियम एवं शर्तें हैं।

    7. क्लब की प्रत्यके श्रेणी में निवेश राशि जमा करने के समय निगम एवं डिस्ट्रीब्यूटर के मध्य एक घोषणा/शपथ पत्र हस्ताक्षरित किया जायेगा।

    8. एक वितरक निम्न कार्य नहीं करेगा

  • कंपनी के नाम पर या कंपनी की ओर से कोई देनदारी या कर्ज लेना।
  • कंपनी के नाम पर कोई अनुबंध दर्ज करें, संशोधित करें या बदलें।
  • कंपनी के साथ प्रतिस्पर्धा में किसी भी व्यापार, व्यवसाय या पेशे में किसी अन्य उत्पाद/माल की बिक्री के लिए स्वयं को शामिल करना या प्रत्यक्ष/अप्रत्यक्ष रूप से दिलचस्पी दिखाना।
  • 9. निवेश का तरीका:

  • इनफाडेल कार्यक्रम में निवेश वर्चुअल कॉइन इनफाडेल कॉइन के माध्यम से किया जायेगा।
  • प्रत्येक श्रेणी में निवेश के लिए न्यूनतम एवं अधिकतम कॉइन खरीदने की सीमा तय की गयी है।
  • इनफाडेल एक वर्चुअल कॉइन का मूल्य एक डॉलर के बराबर होगा।
  • किसी भी श्रेणी में निवेश से पहले पंजीकरण अनिवार्य है।
  • पंजीकरण सशुल्क होगा व दिये गये समय में करना आवश्यक है। अन्तिम दिनांक के बाद किये गये पंजीकरण अवैध होंगे व मान्य नहीं होंगे। पंजीकरण शुल्क अप्रतिदेय है।
  • पंजीकरण के बाद आवेदक को तय समय में स्वयं के विवेक से किसी भी एक श्रेणी में निवेश राशि जमा करनी होगी। तय समय में निवेश राशि जमा नहीं करने व अन्य निर्देशित आवश्यक कार्य नहीं करने पर पंजीयन निरस्त कर पंजीयन शुल्क नहीं लौटाया जायेगा।
  • प्रत्येक श्रेणी में निवेश (Coin) करने और डिस्ट्रीब्यूटर (वितरक) बनने की एक सीमा है , उसके बाद उस श्रेणी में कोई भी आवेदक निवेश नहीं कर पायेगा। अतः इच्छुक व्यक्ति/संस्था अंतिम दिनांक से पहले ही निवेश राशि व अन्य आवश्यक दस्तावेज जमा करवा दे।
  • कम्पनी के पास किसी भी डिस्ट्रीब्यूटर (वितरक) का पंजीयन निरस्त करने का अधिकार सुरक्षित है।
  • कम्पनी द्वारा पंजीयन निरस्त करने की स्थिति में पंजीयन राशि नहीं लौटाई जायेगी व किये गए निवेश पर नियमानुसार पंजीयन निरस्त करने की दिनांक तक बने लाभ (Calculated Benefits) व मूल निवेश राशि लोटा दी जायेगी।
  • कम्पनी द्वारा कोई भी आवेदन निरस्त करने की स्थिति में आवेदक की राशि व अन्य लाभों का भुगतान आवेदन निरस्त करने की दिनांक से 120 दिन के भीतर ऑनलाइन अथवा चैक के माध्यम से किया जायेगा।
  • चूकि निगम के एक INFADEL Coin की कीमत (USD $) के समकक्ष है। अतः मूल निवेश राशि की गणना इस प्रकार की जायेगी
  • प्रत्येक एक दिन (24 hrs) में USD $ का एक निम्न व एक उच्च स्तर होता है। व पूरे समय में USD $ के भाव भारतीय रुपये INR के मुकाबले बदलता रहता है अतः आवेदक द्वारा जिस भारतीय मानक समय में निवेश राशि का भुगतान किया जायेगा, उस समय के USD $ के भाव के अनुसार निवेश राशि की गणना की जायेगी व आगे के सभी लाभ (ब्याज राशि , बोनस राशि व अन्य लाभ ) का भुगतान उसी राशि को आधार मानते हुये किया जायेगा।
  • प्रत्येक श्रेणी में निवेश राशि का एक लॉक इन समय (Look In Period) है इस समय से पहले व दौरान डिस्ट्रीब्यूटर निवेश राशि को withdraw नहीं कर पायेगा, यदि कोई निवेश लॉक इन से पहले व इसके दौरान राशि को withdraw करता है तो कम्पनी द्वारा उसकी डिस्ट्रीब्यूटर निरस्त कर दी जायेगी व सुरक्षा /निवेश राशि पर कोई भी लाभ (ब्याज ,बोनस व अन्य ) नहीं दिया जायेगा। इस स्थिति में डिस्ट्रीब्यूटर की मूल निवेश राशि पर पेन्लटी स्वरुप 30% कटौती कर तय समय में (120 दिनों में) भुगतान किया जायेगा।
  • वितरक (Distributor) को मिलने वाले लाभ और आय:

    1. निवेश/सुरक्षा राशि में बढ़ोतरी: वितरक द्धारा किसी भी श्रेणी में आवेदन के लिए एक राशि जमा करनी होती है, यह निवेश राशि इनफाडेल क्लब के कॉइन को खरीद के माध्यम से की जाती है। एक इनफाडेल कॉइन की कीमत एक USD(यूएस डॉलर) के बराबर है, वितरक द्धारा जिस समय भी राशि जमा की जाती है उस समय के यूएस डॉलर के भाव के बराबर भारतीय रूपये में वह राशि जमा करता है। USD (यूएस डॉलर) के भावों में ज्यादातर बढ़ोतरी देखी जाती है। प्रत्येक श्रेणी में राशि का एक लॉक इन पीरियड है उसके बाद जब वितरक राशि को जब भी वापस लेता है या निकलता है तो निवेश राशि उस दिन के डॉलर के भाव* के बराबर होगी।

    *विशेष: निवेश राशि की गणना यूएस डॉलर के दिन के निम्नतम स्तर के भाव के अनुसार होगी।

    2. ब्याज राशि: प्रत्येक श्रेणी में वितरक को मूल निवेश/सुरक्षा राशि एक निश्चित वार्षिक ब्याज देय होगा। प्रत्येक श्रेणी में मूल निवेश/सुरक्षा राशि पर अलग अलग वार्षिक ब्याज दर देय है। वार्षिक ब्याज देय के लिए निवेश/सुरक्षा राशि की गणना भारतीय रूपये में बिंदु संख्या के में वर्णित है।

    3. मार्जिन/डिस्काउंट पर निगम के उत्पाद उपलब्ध: निवेश/सुरक्षा राशि जमा के एवज में कंपनी द्धारा वितरक को एक निश्चित मार्जिन/डिस्काउंट पर निगम के उत्पाद उपलब्ध करवाए जायेंगे। वितरक द्धारा सभी उत्पादों के विक्रय पर अच्छा लाभ प्राप्त किया जा सकेगा। नियमानुसार एक वार्षिक निश्चित विक्रय पर वितरक को अन्य लाभ भी दिए जाते है।

    4. बोनस:

    5. रेफेरल कोड:

    6. "अपना बाजार" पर नि:शुल्क पंजीयन: निगम के ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म "अपना बाजार" पर वितरक अपना पंजीयन नि:शुल्क करवा पायेगा। वितरक "अपना बाजार" के माध्यम से उत्पादों का ऑनलाइन विक्रय एवं प्रचार कर पाएगा।

    प्रचार, विज्ञापन, बिक्री और विपणन नीति:

    कंपनी ने अपने उत्पादों के प्रचार, विज्ञापन, बिक्री और विपणन के लिए अपनी नीति विकसित की है और उसका पालन करती है। सभी वितरकों को समान नीति का पालन करना होगा । किसी भी परिस्थिति में, वितरकों को नीतियों में परिवर्तन या निर्माण करने की अनुमति नहीं है। हालांकि, वितरक द्धारा अगर किसी विक्रय के लिए उपरोक्त में कोई भी कार्य करना है तो वितरक द्धारा निगम कार्यालय में इसकी सूचना देकर अनुमति प्राप्त करनी होगी, अनुमति मिलने के पश्चात ही वितरक उस नीति के अनुसार उत्पादों का प्रचार, विज्ञापन, बिक्री और विपणन कर सकेगा। कंपनी अपने उत्पादों को थोक या खुदरा दुकानों में संग्रहीत, प्रदर्शित या बेचने की अनुमति नहीं देती है। यदि किसी भी वितरक द्धारा ऐसा होना पाया जाता है तो उस से अपेक्षा की जाती है कि वो उसके बारें में निगम कार्यालय में सूचना दे।

    कंपनी के वितरकों और कर्मचारियों के बीच कंपनी के उत्पादों की बिक्री और खरीद की अनुमति नहीं है। ऐसे मामलों का पता चलने पर इसमें शामिल लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। कंपनी द्वारा निर्धारित और कार्यान्वित मूल्य के अलावा अन्य मूल्य पर उत्पादों की बिक्री सख्त वर्जित है। अन्य वितरकों के साथ प्रतिस्पर्धा करने के लिए या निर्धारित मूल्य के अलावा अन्य कीमतों पर उत्पादों की बिक्री के कृत्यों को गंभीरता से लिया जाएगा। ऐसे मामलों में कंपनी ऐसे कृत्य के लिए जिम्मेदार पाए जाने वाले व्यक्ति (व्यक्तियों) की डिस्ट्रीब्यूटरशिप को समाप्त कर सकती है और उनकी निवेश/सुरक्षा राशि एवं अन्य लाभों को जब्त कर सकती है। वितरकों को अपने स्वयं के प्रचार करने की अनुमति नहीं है जब तक कि उनके पास इसके लिए कंपनी से लिखित अनुमति न हो। कंपनी अपने उत्पादों के विपणन और बिक्री के लिए उत्पाद जानकारी, योजना और उससे संबंधित साहित्य को डिजाइन, प्रिंट, प्रकाशित और प्रसारित करती है।

    विशेष परिस्थितियों में, कंपनी वितरकों को अनुकूलित साहित्य और/या विज्ञापन बनाने की अनुमति दे सकती है। हालांकि, इस उद्देश्य के लिए इच्छुक वितरकों को कंपनी की अनुमति के लिए अग्रिम रूप से एक विस्तृत योजना प्रस्तुत करनी होगी। जब तक कंपनी द्वारा लिखित स्वीकृति नहीं दी जाती है, तब तक वितरक उस नीति के अनुसार उत्पादों का प्रचार, विज्ञापन, बिक्री और विपणन नहीं कर सकेगा।

    डिस्ट्रीब्यूटरशिप की समाप्ति पर ,वितरक कंपनी के सभी संकेतों, लोगो और/या किसी भी अन्य अभ्यावेदन को हटा देगा और बंद कर देगा और कंपनी के किसी भी नाम, संकेत, लेबल, स्टेशनरी, उत्पाद का नाम, कॉपीराइट, डिज़ाइन और/या किसी भी कंपनी से संबंधित किसी भी मुद्रित सामग्री का उपयोग नहीं करेगा। यदि उपरोक्त शर्त का उल्लंघन किया जाता है, तो कंपनी ऐसा करने वाले वितरकों के खिलाफ कानूनी कार्यवाही कर सकता है एवं भविष्य में वह वितरक किसी भी माध्यम से कंपनी से नहीं जुड़ पायेगा।

    वितरक को कंपनी के ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म "अपना बाजार" पर पंजीयन करवाना आवशयक होगा, वितरक "अपना बाजार" के माध्यम से उत्पादों का ऑनलाइन विक्रय एवं प्रचार कर पाएगा। यदि वितरक किसी अन्य ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म पर उत्पाद बेच रहा है या बिक्री के लिए पेशकश कर रहा है, तो ऐसी गतिविधियों को करने के लिए वितरक को कंपनी से पूर्व लिखित सहमति लेनी होगी।

    रिपोर्टिंग नीति

    कंपनी के सामान्य व्यापार नियमों के अनुसार डिस्ट्रीब्यूटर (वितरक) को कंपनी द्धारा नियुक्त किये गए कर्मचारी/अधिकारी को कार्य एवं अन्य सम्बन्ध में रिपोर्ट करना होता है, रिपोर्टिंग अधिकांशत: लिखित माध्यम से ही की जाती है। रिपोर्टिंग के संबंध में अगर कंपनी द्धारा कोई फॉर्मेट एवं निर्देश दिए गए हैं तो वितरक को उन्ही फॉर्मेट एवं निर्देश के अनुसार रिपोर्ट करना होगा। साथ ही रिपोर्टिंग का समय तय है तो वितरक को दिए गए समय में ही रिपोर्ट करना होगा। दिए गए निर्देशानुसार रिपोर्ट नहीं करने पर वितरक को मिलने वाले लाभों से वंचित किया जा सकेगा।

    वितरक द्धारा नियमों के उल्लंघन के मामलों से निपटने की प्रक्रिया

    कंपनी द्धारा उपरोक्त सम्बन्ध में नियम और मार्गदर्शन नोट बनाया है साथ ही वितरक को नियमों के पालना के संबंध में सलाह देती है। कंपनी द्धारा नियमों और विनियमों के उल्लंघन करने वाले वितरक एवं इसमें शामिल वितरकों के खिलाफ भी उचित कार्रवाई करेगी। किसी भी उल्लंघन की स्थिति में, निम्नलिखित प्रक्रिया का पालन करने की आवश्यकता है:

    1. कंपनी की किसी भी नीतियों/नियमों और विनियमों के उल्लंघन के बारे में जानने पर तुरंत शिकायत दर्ज की जाती है। शिकायत कथित उल्लंघन का विवरण देकर लिखित रूप में दी जानी चाहिए, साथ ही उसे शिकायत के बारे में सम्बंधित कर्मचारी/अधिकारी(कंपनी) को सूचित करना चाहिए।
    2. शिकायत प्राप्त होने पर, कंपनी तुरंत संबंधित वितरक को सूचित करेगी, और अपने मामले को स्पष्ट करने के अवसर के रूप में त्वरित प्रतिक्रिया का अनुरोध करेगी। कंपनी उपयुक्त मामलों में स्वत: संज्ञान लेकर ऐसी कार्रवाई कर सकती है।
    3. अपर्याप्त जानकारी के मामले में, कंपनी किसी भी पक्ष से अधिक विवरण के लिए अनुरोध कर सकती है।
    4. यदि कंपनी को विश्वास है कि सामान्य स्थिति बहाल करने का एकमात्र तरीका डिस्ट्रीब्यूटरशिप को निलंबित या समाप्त करना है, तो वह संबंधित वितरक को एक पत्र लिखकर अपने निर्णय से अवगत कराएगी। पत्र को कंपनी के डेटाबेस में सूचीबद्ध वितरक के अंतिम ज्ञात पते पर पंजीकृत मेल / कूरियर के माध्यम से पोस्ट किया जाएगा और पोस्ट मार्क को रसीद के प्रमाण के रूप में लिया जाएगा। कंपनी समाप्त किए गए वितरक के खिलाफ आवश्यक कार्रवाई मुआवजे की मांग, वसूली, हर्जाना और कानूनी लागत, यदि कोई हो, सहित करने का अधिकार सुरक्षित रखती है

    कंपनी को उपरोक्त निर्णय के किसी भी हिस्से में संशोधन या संशोधन करने का अधिकार सुरक्षित है।